Sponsored Links

भारत का प्रथम कृत्रिम उपग्रह कौन सा था


भारत के प्रथम उपग्रह का नाम महान गणितज्ञ के नाम पर “आर्यभट्ट” रखा गया था इस कृत्रिम उपग्रह को 19 अप्रैल 1975 को अंतरिक्ष में सोवियत यूनियन द्वारा छोडा गया था इसी के साथ भारत ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में अपनी खोज की शुरूआत की इस के बाद भारत ने एक के बाद एक कईं उपग्रह अंतरिक्ष में छोड़े भारत की इसरो इस क्षेत्र में कार्य कर रही है जिस ने हाल ही में मंगल ग्रह पर अपना “मंगलयान” सफलता पूर्वक स्थापित किया जो कि मंगल ग्रह से सबंधित विश्व खोजों में अपना योगदान दे रहा है आधुनिक तकनीक से युक्त मंगलयान ने बहुत सी चौंका देने वाली तस्वीरें भेजी हैं

आर्यभट्ट से सबंधित अन्य प्रशन:

आर्यभट्ट उपग्रह का वजन कितना था
358 किलो ग्राम
भारत ने आर्यभट्ट को अंतरिक्ष में प्रक्षेपित करने के बाद कौन सा दूसरा उपग्रह अंतरिक्ष में छोडा
भास्कर-1
भास्कर-1 का वजन आर्यभाट्ट से कितना अधिक था
भास्कर-1 का वजन आर्यभाट्ट से 86 किलो ग्राम अधिक था भास्कर-1 444 किलोग्राम वजनी भारत का दूसरा उपग्रह था
आर्यभट्ट को पृथ्वी की किस कक्षा में व्यवस्थित किया गया था
नीचली कक्षा में
गणितज्ञ आर्यभट्ट द्वारा रचित तीन ग्रंथ कौन कौन से हैं
दशगीतिका, आर्यभट्टीय तथा तंत्र
Sponsored Links