Sponsored Links

DD full form in Hindi | डीडी फुल फॉर्म

DD शब्द दो अर्थों में देश में सबसे अधिक प्रचलित है व आम तौर पर बैंक के दस्तावेजों व भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे टीवी चैनलों पर बार-बार दोहराया जाता है। डीडी का क्या अर्थ है व इसकी फुल फॉर्म क्या है आइए जानते हैं।

1). DD की फुल फॉर्म Demand Draft होती है जिसे देवनागरी में डिमांड ड्राफ्ट लिखा जाता है तथा इसका हिन्दी अनुवाद होता है मांग पत्र। डिमांड ड्राफ्ट बैंकों द्वारा जारी किया जाने वाला लिखित प्रपत्र होता है जिस पर बैंक की स्टाम्प, बनाने वाले अफसर के हस्ताक्षर तथा लाभार्थी की जानकारी अंकित होती है। यह पैसों के लेन देन को सुरक्षित व सुगम बनाने का एक तरीका है। उदाहरण के तौर पर यदि आप किसी को एक लाख रुपए देते हैं तो इसे सुरक्षा पूर्वक ले जाना उस व्यक्ति के लिए मुश्किल हो सकता है और यदि पैसा किसी ऐसे व्यक्ति को देना है जो मीलों दूर रहता हो तब तो पैसों को लाने ले जाने का यह काम जोखिम भरा हो सकता है। अब इस परिस्थिति में आपकी सहायता बैंक करते हैं क्योंकि उनके पास पहले से ही पैसे की सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध होते हैं तथा देश भर में शाखाएँ होने के कारण बैंकों को पैसों को इधर-उधर करने की आवश्यकता कम ही पड़ती है क्योंकि एक शाखा में पैसे जमा करवाने पर दूसरी शाखा या एटीएम के प्रयोग से इन्हें कहीं भी निकाला जा सकता है। डीडी अर्थात डिमांड ड्राफ्ट बनवाने के लिए ऑनलाइन सुविधा होती है जिसके जरिए आप इसे ऑनलाइन बनवा सकते हैं परन्तु यदि आप नगदी का डिमांड ड्राफ्ट बनवाना चाहते हैं तो आपको नगदी लेकर बैंक जाना होगा तथा वहां आपको एक डिमांड ड्राफ्ट आवेदन पत्र दिया जाएगा। यह आवेदन पत्र भरकर आपको अपने आवश्यक दस्तावेजों जैसे कि पैन कार्ड, पहचान पत्र इत्यादि की कॉपी के साथ 1 लाख या जितना पैसा आप किसी को देना चाहते हैं वह रकम आवेदन पत्र में भर कर बैंक में जमा करवानी होती है बैंक उस पैसे को लेकर आपको एक प्रपत्र देता है जिस पर कुल राशि, लाभार्थी का नाम व जानकारी, बैंक मैनेजर के हस्ताक्षर तथा बैंक की स्टाम्प अंकित होती है। अब आपके पैसे बैंक में हैं तथा उसका डीडी व जमा पर्ची आपके पास। आप इस डिमांड ड्राफ्ट को उस व्यक्ति को दे सकते है अथवा पोस्ट द्वारा भेज सकते हैं जिसके नाम पर आपने यह बनवाया है। इसे प्राप्त करने के पश्चात वह व्यक्ति सुगमता से उस बैंक विशेष की नजदीकी शाखा में जाकर वहाँ डिमांड ड्राफ्ट जमा कर पैसा प्राप्त कर सकता है। इस प्रकार आपके पैसा सुरक्षा पूर्वक लाभार्थी तक पहुँच जाता है। डिमांड ड्राफ्ट की इस सेवा के लिए बैंक आपसे नाम मात्र शुल्क लेते हैं जो 1 लाख की रकम के लिए 100 रुपए के आसपास होता है। डीडी सेवा का शुल्क सभी बैंकों में अलग-अलग हो सकता है। डिमांड ड्राफ्ट आमतौर पर बहुतयात में प्रयोग की जाने वाली सेवा है जिस कारण यह संक्षिप्त नाम प्रचलित हो चुका है।

2). DD की दूसरी फुल फॉर्म Doordashan है। देवनागरी में इसे दूरदर्शन लिखा जाता है। जैसा कि नाम से ही जाना जा सकता है कि यह दूर के दृश्यों को आपके समक्ष लाने की एक सेवा है। इसे इंग्लिश में "टेलिविज़न" कहा जाता है। दूरदर्शन नाम का जन्म वर्ष 1975 में उस समय हुआ जब भारत के राष्ट्रीय टीवी चैनल को दूरदर्शन नाम दिया गया था। सरकारी माध्यमों व शुरुआत में प्रसारण मीडिया पर भारत सरकार के अकेले स्वामित्व के चलते यह चैनल देश भर में प्रचलित हो चुका है। DD के नाम से बहुत से चैनल देखे जा सकते हैं जिनमें DD नेशनल, DD भारती, DD न्यूज़ राष्ट्रीय चैनल के उदाहरण हैं तथा DD पंजाबी, DD मलयालम, DD गुजराती इत्यादि क्षेत्रीय चैनल के उदाहरण हैं।

Sponsored Links

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें