Sponsored Links

किस राज्य का नाम कैसे पड़ा How Indian States Got Their Name in Hindi

हरियाणा का नाम: हरियाणा का नाम दो शब्दों से मिलकर बना है पहला हरि (अर्थात ईश्वर) जो कि हिन्दू देवता विष्णु का ही अन्य नाम है तथा दूसरा शब्द है अणय (अर्थात निवास) जिसका मतलब होता है रहने का स्थान। इस प्रकार हरियाणा शब्द का संयुक्त अर्थ होता है हरि का निवास। इस नाम के पीछे मान्यता है कि कुरुक्षेत्र के युद्ध में जब स्वयं श्री कृष्ण यहां पधारे थे तो युद्ध के चलते उन्होंने यहां निवास किया था जिस कारण इसका नाम हरियाणा पड़ा। इसके अतिरिक्त एक अन्य मान्यता के अनुसार प्राचीन समय में यहां स्थित हरे भरे जंगलो के कारण इसका नामकरण हुआ। क्योंकि हरियाणा की जलवायु हरियाली के लिए उपयुक्त है तथा निश्चित ही प्राचीन समय में यह हरे वनों से परिपूर्ण रहा होगा इसलिए इसका संस्कृत में नामकरण हरि (हरा) तथा अणय (वन) के तौर पर हुआ। जो कि हरिअणय बनता है तथा समय गुजरने के साथ इसे हरियाणा कहा जाने लगा।

पंजाब का नाम: पंजाब के नाम का साक्ष्य इसकी नदियों के रूप में आज भी अस्तित्व में है। पंजाब शब्द पंज तथा आब से मिलकर बना है। जिसमें पंज अर्थात पांच तथा आब अर्थात पानी होता है। इस प्रकार पंजाब नाम का अर्थ बनता है पाँच पानी की धाराओं का क्षेत्र। पंजाब में पाँच नदियां बहती हैं इन्ही के नाम पर इस राज्य का नाम पड़ा।

उत्तर प्रदेश का नाम: उत्तर प्रदेश भारत के उस भाग पर बना है जो देश के मध्य उत्तर की ओर शुरू होने वाला पहला खंड है इसलिए इसका राज्य का नाम उत्तर प्रदेश रखा गया है।

अरुणाचल प्रदेश का नाम: अरुणाचल दो शब्दों से मिलकर बना है अरुण अर्थात सूरज तथा अचल अर्थात उगना या धरती। इस प्रकार अरुणाचल प्रदेश का अर्थ होता है उगते सूरज का देश या उगते सूरज की धरती।

असम का नाम: असम के नाम रखे जाने के पीछे बहुत से तथ्य दिए जाते हैं इनमें सबसे मान्य है इस क्षेत्र पर शासन करने वाली अहोम जनजाति। माना जाता है कि अहोम से ही असम शब्द बना है। अन्य मतानुसार यह शब्द असम अर्थात जो समतल ना हो से बना है क्योंकि असम की धरती समतल नही है।

गुजरात का नाम: गुजरात शब्द का मूल गुर्जर शब्द को माना जाता हैं गुर्जर एक समुदाय है जिसने 600 वर्ष इस क्षेत्र पर राज किया है। गुर्जरों के राज के समय में इस क्षेत्र को गुर्जरत्रा कहा जाता था जिसका अर्थ गुर्जरों की भूमि था तथा गुर्जरत्रा शब्द ही आज गुजरात बना है।

हिमाचल का नाम: यह नाम दो शब्दों से मिलकर बना है हिम अर्थात बर्फ तथा अचल अर्थात भूमि। इस प्रकार सामूहिक अर्थ बनता है बर्फ मि धरती। यहाँ के वासी इसे अपना बर्फ का घर कहते थे जिससे हिमाचल नाम बना। और क्योंकि शुरू से ही सन्यास लेने वाले साधु पहाड़ी क्षेत्रों की ओर रूख करते रहे हैं इसलिए यहाँ पर ऋषि मुनियों का दबदबा रहा है जिस कारण आज यहाँ असँख्य धार्मिक स्थान, मंदिर , आश्रम बने हुए है इसलिए इस देवभूमि भी कहा जाता है।

झारखंड का नाम: झारखंड दो शब्दों का मेल है झार अर्थात झाड़ी तथा खंड अर्थात भाग। झारखंड बिहार के उस हिस्से को अलग कर बनाया गया है जिसमें जंगलों की अधिकता है तथा इन्ही झाड़ीनुमा जंगलों के नाम पर इस राज्य का नाम झारखंड पड़ा है।

Sponsored Links

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें