प्रान्त और राज्य में क्या अंतर होता है?

भारत में संघात्मक व्यवस्था प्रणाली लागू है इस वजह से भारत 28 राज्यों में बंटा हुआ है किसी एक भौगोलिक इकाई को छोटे-छोटे क्षेत्रों में बांट कर शासन करने की प्रक्रिया संघात्मक व्यवस्था प्रणाली कहलाती है। इसी व्यवस्था के अंतर्गत भारत में शासन चलता है भारत में एक प्रधानमंत्री होता है तथा देश को जिन 28 छोटे-छोटे क्षेत्रों में बांटा गया है उनमें एक-एक मुख्यमंत्री होता है बाकी के जो 09 केंद्र शासित प्रदेश हैं उनमें केंद्र सरकार द्वारा राज्यपाल की नियुक्ति की जाती है। इस प्रकार भारत में संघात्मक प्रणाली कार्य करती है।

इसी संघात्मक प्रणाली में जिन्हें हम राज्य के नाम से जानते हैं अर्थात बिहार, राजस्थान, ओडिशा, मध्य प्रदेश, असम, केरल, गुजरात यह सब वास्तव में प्रान्त हैं। इन प्रान्तों के लिए राज्य शब्द का प्रयोग संविधान में भी किया गया है इसलिए राज्य शब्द आम बोलचाल में बड़े लंबे समय से प्रयोग किया जाता रहा है।

परन्तु वास्तव में राज्य ऐसी भौगोलिक इकाई को कहा जाता है जहां पर रहने वाले लोगों की खुद की राजनीति, खुद का शासन व खुद के अधिकार होते हैं तथा वे अंतराष्ट्रीय देशों के साथ सबंध बना सकते हैं। इस संदर्भ में भारत वास्तव में एक राज्य है और क्योंकि हम भारत को देश कहते हैं इसलिए राज्य और देश दोनों शब्द एक दूसरे के पर्यायवाची हैं।

वहीं बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश इत्यादि यह सब हमारे प्रान्त हैं लेकिन हम इन्हें बिहार राज्य, मध्यप्रदेश राज्य, राजस्थान राज्य, केरल राज्य इत्यादि कह सकते हैं। लेकिन समय के साथ हमने इन्हें सीधा राज्य कहना शुरू कर दिया है। इसलिए यह पूर्णतः हमारे संदर्भ पर निर्भर करता है कि हम जब राज्य शब्द का प्रयोग कर रहे होते हैं तो वह हमारे देश को परिभाषित करता है या हमारे राज्य को।

निम्न GK प्रश्नों के उत्तर जानें :

धर्मनिरपेक्षता और पंथनिरपेक्षता में क्या अंतर है?

लोकसभा और विधानसभा में क्या अंतर है?

भारत का आधिकारिक नाम क्या है?

रोचक सामान्य ज्ञान प्रश्न

फलों के नाम इंग्लिश में

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें