Sponsored Links

1857 के विद्रोह के कारण क्या थे

1857 के विद्रोह को भारत का पहला स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है, हालांकि यह सफल नहीं हुआ लेकिन इसके बहुत से प्रभाव रहे हैं, हम इस आर्टिकल में इसके कारणों की चर्चा करेंगे, कि वे कौन से कारण थे जिनकी वजह से 1857 का जो विद्रोह है, वो हुआ था, 1857 का विद्रोह अंग्रेजो के खिलाफ प्रथम व्यापक विद्रोह था, जो काफी बड़े क्षेत्र में फैला था तथा इसका नेतृत्व भी अनेक लोगों ने अपने-अपने क्षेत्रों में किया था, हालांकि हम यह कह सकते हैं कि स्पष्ट रूप से यह संपूर्ण भारत में नहीं फैला और इसका कोई एक नेता संपूर्ण भारत में इसका नहीं हो सका, लेकिन क्षेत्रीय स्तर पर इस आंदोलन का स्पष्ट प्रभाव हमें देखने को मिला, अब बात करते हैं कि 1857 के विद्रोह के कारण क्या थे

तो सबसे पहले, अंग्रेजो के द्वारा भारतीय सैनिकों के साथ भेदभाव किया जाता था, अंग्रेजी सैनिकों को अधिक वेतन दिया जाता था और उनकी अपेक्षा भारतीय सैनिकों को वेतन भी कम दिया जाता था और सुविधाएं भी कम मिलती थी, साथ में भारतीय सैनिकों के पास पदोन्नति के अवसर भी लगभग ना के बराबर थे, इस कारण धीरे-धीरे एक विरोध भारतीय सैनिकों में होने लगा था, व भारतीय सैनिकों में एक विद्रोह की आग जलने लगी थी

इसके बाद अंग्रेजों की जो धार्मिक नीति थी वह भी हिंदुओं और मुसलमानों के लिए कष्टदायक थी, ईसाई धर्म प्रचार पर ब्रिटिश सरकार का बहुत ज्यादा जोर था, इसलिए वे हिंदुओं और मुसलमानों की प्रथाओं की अवहेलना किया करते थे, उस समय भारत के अनेक क्षेत्रों में सुधारवादी आंदोलन भी जारी हुए थे जैसे कि वहाबी आंदोलन, वहाबियों ने अंग्रेजी सत्ता का अंत करने का आह्वान किया था, जिसके खिलाफ अंग्रेजों ने एक कड़ा रुख अपनाया था, बाद में इन आंदोलनों से प्रभावित भारतीयों ने 1857 की क्रांति में भाग लिया था, इस प्रकार के सुधारवादी आंदोलन अनेक स्थानों पर चल रहे थे, जो कि 1857 के विद्रोह के कारण बने

इसके अलावा जमीदारों एवं सामंतों के विरुद्ध भी अंग्रेजों की नीति 1857 में विद्रोह का कारण बनी, बहुत से स्थानों पर जमींदारों को और रियासतों को अंग्रेजों ने दिवालिया घोषित कर दिया था या उन पर कब्जा कर लिया था, अंग्रेजों ने अनेक राजाओं की संपत्ति छीन ली थी फल स्वरूप इन राजाओं ने अंग्रेजो के खिलाफ माहौल बनाना शुरू कर दिया, इन कारणों के अलावा भी अन्य बहुत से कारण थे जो 1857 में के विद्रोह का कारण बने जैसे कि कृषक, शिल्पकार आदि का शोषण किया जाना, जिससे आमजन में एक विद्रोह फैल गया और इसके तत्कालिक कारण की बात की जाए तो 1857 के विद्रोह का तात्कालिक कारण था, भारतीय सैनिकों को चर्बी वाले कारतूस का प्रयोग करने पर विवश करने वाली अफवाह व घटना, जिससे पूरे देश के कोने-कोने में एकदम से यह विद्रोह आग की तरह फैल गया
Sponsored Links

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें