Sponsored Links

9 डैश लाइन क्या है | 9 Dash Line in Hindi

9 डैश लाइन का सबंध चीन से है चीन के साथ लगने वाला इसका दक्षिणी सागर जिसे साउथ चाइना सी अर्थात दक्षिणी चीन सागर के नाम से जाना जाता है में खींची गई एक काल्पनिक रेखा है। इस रेखा को सीधे रूप में ना खींच कर 9 डैश में पूरा किया गया है इसलिए इसका नाम 9 डैश लाइन पड़ा है। और क्योंकि यह रेखा दक्षिण चीन सागर से लगने वाले देश फिलीपीन्स, ताइवान, वियतनाम, मलेशिया, ब्रूनेई, इंडोनेशिया तथा सिंगापुर के आधिकारिक समुंद्री क्षेत्र से होकर गुजरती है इस कारण यह रेखा अंतराष्ट्रीय विवाद का कारण बनी हुई है।

अंतराष्ट्रीय नियमों के अनुसार जब कोई देश किसी समुंद्र के साथ सीमा बनाता है तो उस समुंद्र का 200 मील तक का क्षेत्र उस देश की आधिकारिक सम्पति बन जाता है। जबकि 9 डैश लाइन इन देशों के इस 200 मील के क्षेत्र से होकर गुजरती है। यह लाइन दक्षिणी चीन सागर के कुल भाग का 80% चीन का कब्जा बनाती है जिससे चीन का कुल सागर के 80% भाग पर दावा घोषित होता है। इस दावे को पुख्ता करने के लिए चीन 3000 वर्ष पहले जब चीन में राजाओं का राज था उस समय का हवाला देता है तथा स्पष्ट करता है कि उसका इस सागर पर ऐतिहासिक अधिकार है। चीन का कहना है कि दक्षिणी चीन सागर में सभी टापू उसके हैं तथा टापुओं के आस पास के 200 मील समुंद्री क्षेत्र पर उसका अधिकार है जो कि कुल सागर का 80% प्रतिशत बनता है। जबकि फिलीपीन्स इस सागर के 200 मील क्षेत्र पर अपना दावा करता है जिसे अंतराष्ट्रीय न्यायालय ने भी मान्यता दी है परन्तु क्योंकि चीन अंतराष्ट्रीय न्यायालय के इस फैसले को दरकिनार करता है इसलिए फिलीपीन्स तथा चीन के मध्य विवाद की स्थिति बनी रहती है।

9 डैश लाइन विषय से बनने वाले सामान्य ज्ञान प्रश्न:

1. नाइन डैश लाइन विवाद का सबंध किन देशों से है?
चीन, वियतनाम, फिलीपीन्स, ताइवान, मलेशिया, ब्रूनेई, इंडोनेशिया तथा सिंगापुर।

2. नाइन डैश लाइन किस सागर में खींची गई एक काल्पनिक रेखा है?
दक्षिणी चीन सागर में।

3. नाइन डैश लाइन का नाम कैसे पड़ा?
यह सीधी लाइन खींचने की बजाए नौ डैश में पूरी की गई है इसलिए इसे नाइन डैश लाइन कहा जाता है।

4. नाइन डैश लाइन विवाद से किन देशों के मध्य युद्ध की स्थिति बनी हुई है?
चीन तथा फिलीपीन्स के मध्य।

5. दक्षिणी चीन सागर जिसमें नाइन डैश लाइन खींची गई है का कुल क्षेत्रफल कितना है?
35 लाख वर्ग किलो मीटर।

Sponsored Links

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें