Sponsored Links

राष्ट्रभाषा और राजभाषा में क्या अंतर है?

राष्ट्रभाषा किसी भी देश की वह भाषा होती है जो उस देश के सर्वाधिक लोगों द्वारा बोली व समझी जाती है। जैसे कि ब्रिटेन के 98% लोगों द्वारा अंग्रेजी भाषा बोली व समझी जाती है इसलिए अंग्रेजी ब्रिटेन की राष्ट्रभाषा है। भारत में कोई राष्ट्रभाषा नही है यद्द्पि हिंदी भाषा भारत की राष्ट्र भाषा होने की दौड़ में प्रथम स्थान रखती है क्योंकि भारत की 44% जनसँख्या हिंदी को अच्छी तरह बोल व समझ सकती है। परंतु यह प्रतिशत हिंदी को राष्ट्र भाषा बनाने की अनुमति फिलहाल नही देता।

वहीं राजभाषा किसी देश की वह भाषा होती है जिसका प्रयोग वहां की सरकार द्वारा सरकारी कामकाज करने के लिए किया जाता है। भारत की संघीय राजभाषा हिंदी है। जो कि देवनागरी लिपि में लिखी जाती है। आमतौर पर किसी देश की राष्ट्रभाषा ही उस देश की राजभाषा होती है लेकिन भारत विविधताओं का देश है इसलिए यहाँ पर यह तथ्य लागू नही होता। भारत के प्रत्येक राज्य को अपनी अलग राजभाषा बनाने का अधिकार है।

भारत में हिंदी सहित कुल 22 भाषाओं को मान्यता प्राप्त है इसलिए अलग-अलग क्षेत्रों में बोली जाने वाली भाषाएं अलग हैं। वहीं यदि हम संपर्क भाषा की बात करें तो अंग्रेजी हमें पूरे देश में एक दूसरे से बातचीत करने की सुविधा प्रदान करती है इसलिए अंग्रेजी हमारी संपर्क भाषा है।

निम्न GK प्रश्नों का उत्तर जानें :

धर्मनिरपेक्षता और पंथनिरपेक्षता क्या है?

प्रान्त और राज्य में क्या अंतर है?

लोकसभा और राज्यसभा में क्या अंतर है?

सामान्य ज्ञान क्विज 127

इतिहास की जानकारी के स्त्रोत क्या हैं?

Sponsored Links

प्रथम विश्व युद्ध कब हुआ था?

प्रथम विश्व युद्ध की शुरुआत 28 जुलाई 1914 को उस समय हुई जब बोस्निया के राष्ट्रवादियों ने सर्बिया की सहायता से ऑस्ट्रिया-हंगरी के राजकुमार की हत्या कर दी। इस हत्या के बाद ऑस्ट्रिया-हंगरी ने सर्बिया को आत्मसमर्पण करने को कहा लेकिन सर्बिया के मना करने पर ऑस्ट्रिया-हंगरी ने सर्बिया पर 28 जुलाई 1914 को युद्ध की घोषणा कर दी। इसी दिन प्रथम विश्व युद्ध की शुरुआत हो गई।

बाद में एक दूसरे से हुई गुप्त संधियों व निजी लाभ के चलते जर्मनी, ब्रिटेन, फ्रांस, रूस, जापान, अमेरिका, इटली जैसे बड़े देश युद्ध में कूद पड़े और अंत में जब जर्मनी ने 11 नवंबर 1918 को आत्मसमर्पण किया तब यह युद्ध समाप्त हुआ।

इस युद्ध को ग्लोबल वॉर (वैश्विक युद्ध) कहा गया और माना गया कि इसके बाद कोई भी युद्ध नही होगा लेकिन यह अनुमान गलत साबित हुआ क्योंकि इसके दो दशक बाद 1939 में द्वितीय विश्वयुद्ध शुरू हो गया जो जापान के हिरोशिमा और नागासाकी पर गिराए गए परमाणु बम की घटना पर जाकर समाप्त हुआ था।

निम्न GK प्रश्नों के उत्तर जानें :

प्रथम विश्व युद्ध क्यों हुआ था?

शीतयुद्ध से सबंधित सामान्य ज्ञान प्रश्न

धर्मनिरपेक्षता और पंथनिरपेक्षता में क्या अंतर है?

लोकसभा और विधानसभा में क्या अंतर है?

भारत का आधिकारिक नाम क्या है?

Sponsored Links

प्रथम विश्व युद्ध क्यों हुआ था?

प्रथम विश्वयुद्ध होने का शुरुआती कारण था बोस्निया के राष्ट्रवादियों द्वारा ऑस्ट्रिया-हंगरी के राजकुमार की हत्या करना। बोस्निया उस समय ऑस्ट्रिया-हंगरी का गुलाम था तथा बोस्निया की आजादी की मांग करने वाले राष्ट्रवादियों ने ऑस्ट्रिया-हंगरी के साराजेवो नामक स्थान पर 28 जून 1914 के दिन राजकुमार की गोली मारकर हत्या कर दी। इस हत्या में सर्बिया (जो कि ऑस्ट्रिया-हंगरी का पड़ोसी देश है) ने बोस्निया राष्ट्रवादियों का साथ दिया था। इसी कारण ऑस्ट्रिया-हंगरी ने सर्बिया को आत्मसमर्पण करने के लिए कहा लेकिन सर्बिया के मना करने पर ऑस्ट्रिया-हंगरी ने उस पर युद्ध की घोषणा कर दी।

अब सर्बिया में सलविक नस्ल के लोग रहते थे तथा रूस में भी इसी नस्ल के लोगों का निवास था तो सांस्कृतिक समानता को देखते हुए सर्बिया ने रूस से मदद माँगी। रूस मदद करने के लिए राजी हो गया और रूस ने ऑस्ट्रिया-हंगरी पर युद्ध की घोषणा कर दी। अब ऑस्ट्रिया-हंगरी अकेला रह गया और उसने एक पुरानी संधि के तहत जर्मनी से मदद मांगी। जर्मनी मदद को राजी हो गया। जर्मनी के युद्ध में आते ही रूस ने ऑस्ट्रिया-हंगरी के साथ-साथ जर्मनी पर भी युद्ध की घोषणा कर दी। इसके बाद फ्रांस को भी युद्ध में कूदना पड़ा क्योंकि उसने रूस के साथ युद्ध में साथ देने की संधि की हुई थी।

जब फ्रांस ने जर्मनी पर युद्ध की घोषणा की तो जर्मनी ने बेल्जियम के रास्ते फ्रांस में घुसने की सफल कोशिश की। लेकिन बेल्जियम की संधि ब्रिटेन से थी इसलिए बेल्जियम के रास्ते जबरदस्ती घुसने के कारण ब्रिटेन ने भी जर्मनी पर युद्ध की घोषणा कर दी। बाद में ब्रिटेन से संधि के चलते जापान भी युद्ध मे कूद गया। बाद में 1917 में जब जर्मनी ने अमेरिका के समुंद्री जहाजों पर हमला किया तो अमेरिका भी मित्रपक्ष देशों (रूस, ब्रिटेन, फ्रांस) के साथ युद्ध में शामिल हो गया।

इस प्रकार ऑस्ट्रिया-हंगरी के राजकुमार की हत्या ही प्रथम विश्व युद्ध शुरू होने का आकस्मिक कारण बनी। यद्द्पि सैन्य शक्ति, युद्ध संधियाँ, तकनीक, हथियार, राष्ट्रवाद तथा साम्राज्यवाद जैसी अन्य भावनाओं ने इस युद्ध में आग में घी डालने का काम किया।

निम्न GK प्रश्नों के उत्तर जानें :

प्रथम विश्व युद्ध कब हुआ था?

शीतयुद्ध से सबंधित सामान्य ज्ञान प्रश्न

धर्मनिरपेक्षता और पंथनिरपेक्षता में क्या अंतर है?

लोकसभा और विधानसभा में क्या अंतर है?

भारत का आधिकारिक नाम क्या है?

Sponsored Links

नाथूराम गोडसे को फांसी कब तथा कहाँ दी गई थी?

नाथूराम गोडसे को महात्मा गांधी की हत्या करने के जुर्म में अंबाला जेल में फांसी दी गई थी। गोडसे ने महात्मा गांधी को क्यों मारा यह भारत के सबसे बड़े बहस के मुद्दों में से एक रहा है। इस हत्या के पीछे कभी हिन्दू कट्टरवाद को कारण समझा जाता है तो कभी महात्मा गांधी की अहिंसक नीतियों को।

गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या उस समय की जब 30 जनवरी 1948 के दिन शाम के समय जब वे प्राथना स्थल की तरफ बढ़ रहे थे। उसी समय नाथूराम गोडसे ने सामने से आकर महात्मा गांधी की छाती में तीन गोलियां मारी। घटनास्थल से ही गोडसे को गिरफ्तार कर लिया गया और मुकदमा चलाया गया।

अंतः पंजाब हाईकोर्ट में चले ट्रायल के बाद 15 नवंबर 1949 को अंबाला जेल में नाथूराम गोडसे को फांसी दे दी गई।

इन सामान्य ज्ञान प्रश्नों का उत्तर भी जानें :

महात्मा गांधी से जुड़े सामान्य ज्ञान प्रश्न

मुगलों की राजभाषा क्या थी?

प्रान्त और राज्य में क्या अंतर होता है?

चंपारण आंदोलन कब हुआ था?

बंदरगाहों से जुड़े सामान्य ज्ञान प्रश्न

Sponsored Links

मुगलों की राजभाषा क्या थी?

मुगल मध्यपूर्व से आए थे तथा मुगल साम्राज्य का संस्थापक बाबर; तैमूरलंग का वंशज था। वहीं मुगल शब्द मंगोल से बना है इसलिए मुगल शासक चंगेज खान से भी सबंधित थे। भारत में शासन करते समय मुगलों ने फ़ारसी भाषा को अपनी राजभाषा बनाया था।

मुगलों ने भारत में अरबी, फ़ारसी और हिंदी को जोड़कर उर्दू भाषा का भी प्रचार किया था जो आज के समय में पाकिस्तान की आधिकारिक भाषा है।

परिभाषा के आधार पर बात की जाए तो वह भाषा जिसे शासकों द्वारा अपने प्रशासनिक कार्य करने के लिए प्रयोग किया जाता है; को राजभाषा कहा जाता है। भारत की वर्तमान राजभाषा "हिंदी" है।

निम्न GK प्रश्नों का उत्तर जानें :

अंतिम मुगल शासक कौन था?

आधुनिक भारत का नृप निर्माता किसे कहा जाता है?

पानीपत का प्रथम युद्ध कब हुआ था?

किस शहर को एक दिन के लिए भारत की राजधानी बनाया गया था?

आर्थिक प्रतिबंध क्या होते हैं तथा क्यों लगाए जाते हैं?

अमेरिका में कितने देश हैं?

ओटोमन साम्राज्य से सबंधित सामान्य ज्ञान प्रश्न

भारत में दो टाइम जोन

हमारे सौरमंडल का सबसे गर्म ग्रह कौन सा है?

भारत की मुद्रा के बारे में

Sponsored Links

प्रान्त और राज्य में क्या अंतर होता है?

भारत में संघात्मक व्यवस्था प्रणाली लागू है इस वजह से भारत 28 राज्यों में बंटा हुआ है किसी एक भौगोलिक इकाई को छोटे-छोटे क्षेत्रों में बांट कर शासन करने की प्रक्रिया संघात्मक व्यवस्था प्रणाली कहलाती है। इसी व्यवस्था के अंतर्गत भारत में शासन चलता है भारत में एक प्रधानमंत्री होता है तथा देश को जिन 28 छोटे-छोटे क्षेत्रों में बांटा गया है उनमें एक-एक मुख्यमंत्री होता है बाकी के जो 09 केंद्र शासित प्रदेश हैं उनमें केंद्र सरकार द्वारा राज्यपाल की नियुक्ति की जाती है। इस प्रकार भारत में संघात्मक प्रणाली कार्य करती है।

इसी संघात्मक प्रणाली में जिन्हें हम राज्य के नाम से जानते हैं अर्थात बिहार, राजस्थान, ओडिशा, मध्य प्रदेश, असम, केरल, गुजरात यह सब वास्तव में प्रान्त हैं। इन प्रान्तों के लिए राज्य शब्द का प्रयोग संविधान में भी किया गया है इसलिए राज्य शब्द आम बोलचाल में बड़े लंबे समय से प्रयोग किया जाता रहा है।

परन्तु वास्तव में राज्य ऐसी भौगोलिक इकाई को कहा जाता है जहां पर रहने वाले लोगों की खुद की राजनीति, खुद का शासन व खुद के अधिकार होते हैं तथा वे अंतराष्ट्रीय देशों के साथ सबंध बना सकते हैं। इस संदर्भ में भारत वास्तव में एक राज्य है और क्योंकि हम भारत को देश कहते हैं इसलिए राज्य और देश दोनों शब्द एक दूसरे के पर्यायवाची हैं।

वहीं बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश इत्यादि यह सब हमारे प्रान्त हैं लेकिन हम इन्हें बिहार राज्य, मध्यप्रदेश राज्य, राजस्थान राज्य, केरल राज्य इत्यादि कह सकते हैं। लेकिन समय के साथ हमने इन्हें सीधा राज्य कहना शुरू कर दिया है। इसलिए यह पूर्णतः हमारे संदर्भ पर निर्भर करता है कि हम जब राज्य शब्द का प्रयोग कर रहे होते हैं तो वह हमारे देश को परिभाषित करता है या हमारे राज्य को।

निम्न GK प्रश्नों के उत्तर जानें :

धर्मनिरपेक्षता और पंथनिरपेक्षता में क्या अंतर है?

लोकसभा और विधानसभा में क्या अंतर है?

भारत का आधिकारिक नाम क्या है?

रोचक सामान्य ज्ञान प्रश्न

फलों के नाम इंग्लिश में

Sponsored Links

असहिष्णुता क्या है?

जब कोई व्यक्ति अपने मन में ऐसे विचार उत्पन्न कर लेता है जो उसे सर्वश्रेष्ठ होने का अनुभव करवाते हैं और जब वह अन्य व्यक्तियों को बिना कोई विचार किए निम्न कोटि का समझने लगता है तथा उनके द्वारा किए जाने वाले किसी भी कृत्य का बिना सोचे समझे विरोध करने लगता है तो हम कह सकते हैं कि यह व्यक्ति असहिष्णु हो चुका है। प्रत्येक व्यक्ति में सोचने समझने की क्षमता होती है यद्द्पि प्रत्येक व्यक्ति का सोचने समझने का तरीका अलग हो सकता है प्रत्येक मनुष्य अपने पूर्वाग्रहों से प्रभावित होता है इसलिए सोचने के तरीके में अंतर होना कोई बड़ी बात नही। कोई व्यक्ति चाहे किसी भी धर्म में पैदा हुआ हो उसे पूर्ण अधिकार है कि वह अपने धार्मिक कृत्यों को निभा सके। कोई अन्य धर्म का व्यक्ति उसे वह कृत्य करने से तब तक नही रोक सकता जब तक वह कृत्य उसे कोई निजी हानि न पहुँचा रहा हो। बिना किसी कारण के केवल अपनी पसंद ना पसंद के आधार पर किसी व्यक्ति को धार्मिक कृत्य करने से रोकना हमारी असहिष्णुता को दर्शाता है।

असहिष्णुता का अर्थ होता है सहन न करना या सहनशक्ति का न होना। किसी भी समाज के बढ़ने के लिए यह आवश्यक है कि उस समाज में रहने वाले व्यक्ति एक दूसरे के प्रति सहिष्णु बने। क्योंकि विविधता में भी एकता पाई जाती है प्रत्येक व्यक्ति अपने निजी स्तर पर अलग हो सकता है या अपने अलग विचार रख सकता है लेकिन उसकी आंतरिक भावना किसी को आहत करने की नहीं होनी चाहिए। यदि उसे कोई विचार पसंद नहीं आता तो केवल द्वेष की भावना के आधार पर उस विचार को स्थगित कर देना असहिष्णुता की निशानी है। हमें प्रयास करना चाहिए कि हम एक ऐसे व्यक्ति बने जो सहिष्णु हो और विविधता को पसंद करते हों।

सहिष्णुता सज्जन व्यक्तियों की निशानी होती है और सहिष्णु होकर ही हम एक स्वच्छ, सुरक्षित व एकता में विश्वास रखने वाले समाज का निर्माण कर सकते हैं। भारत जैसा देश जहां पर विविधता में एकता है ऐसे भव्य देश के नागरिक होते हुए यह हमारा कर्तव्य भी है और प्रकृति भी।

Sponsored Links

आर्थिक प्रतिबंध क्या होते हैं तथा क्यों लगाए जाते हैं?

दुनिया के प्रत्येक देश एक दूसरे के साथ व्यापार करते हैं और उसमें पैसे का लेनदेन होता है जिसे हम आर्थिक लेन-देन भी कह सकते हैं। यदि कोई एक देश सामने वाले देश के साथ व्यापार नहीं करना चाहता है तो वह सामने वाले देश पर आर्थिक प्रतिबंध लगा सकता है जिसके बाद उन देशों के बीच पैसे का आदान प्रदान होना बंद हो जाता है और वे दोनों देश एक दूसरे की करेंसी का प्रयोग नहीं कर पाते। इन्हीं प्रतिबंधों को आर्थिक प्रतिबंध कहा जाता है।

आर्थिक प्रतिबंध लगाने वाले देशों में जो देश शीर्ष पर पर है वह है "संयुक्त राज्य अमेरिका" क्योंकि संयुक्त राज्य अमेरिका की करेंसी "डॉलर" वैश्विक स्तर पर 60% हिस्सेदारी रखती है अर्थात विश्व स्तर पर जो व्यापार होता है उसमें 60% तक का लेन देन अमेरिकी डॉलर में किया जाता है और यदि अमेरिका किसी देश पर आर्थिक प्रतिबंध लगा देता है तो वह देश अमेरिकी करेंसी का प्रयोग कर लेन-देन करने में असमर्थ हो जाता है। क्योंकि अगर वह देश अमेरिकी डॉलर में लेन-देन करेगा तो जिस समय डॉलर के लेनदेन की वह प्रक्रिया अमेरिकी सिस्टम से होकर गुजरेगी तो वहां पर इस प्रोसेस को रोका जा सकता है और आपका लेनदेन प्रभावित किया जा सकता है ऐसी स्थिति में आप ज्यादातर देशों के साथ अपना लेनदेन करने में सक्षम नहीं हो पाते।

अपनी इसी आर्थिक मजबूती का फायदा उठाते हुए अमेरिका बहुत से देशों पर आर्थिक प्रतिबंध लगाता रहा है। इससे उन देशों को व्यापार करने में तो समस्या आती ही है साथ में उनकी अर्थव्यवस्था को भी भारी क्षति पहुंचती है इसके अलावा छोटे-छोटे देश अमेरिका के साथ खड़े हुए नजर आते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि अगर वे अमेरिका का साथ नही देंगे तो उन्हें भी आर्थिक प्रतिबंध झेलने पड़ सकते हैं। इसलिए जब किसी देश पर अमेरिका आर्थिक प्रतिबंध लगाता है तो वह देश अलग-थलग पड़ जाता है उसकी अर्थव्यवस्था कमजोर होने लगती है उस देश में बाहर से आने वाली वस्तुओं का दाम अचानक से बढ़ जाते है और उस देश की करेंसी गिरने लगती है इसी स्थिति को आर्थिक प्रतिबंध की स्थिति कहा जाता है।

अब जानते हैं आर्थिक प्रतिबंध क्यों लगाए जाते हैं। दरअसल, आर्थिक प्रतिबंध विकसित देशों द्वारा विकासशील देशों पर उस समय लगाए जाते हैं जब विकासशील देश उनके इंट्रेस्ट के अनुसार कार्य नहीं करते। यदि कोई देश अमेरिका की कोई बात नहीं मानता या फिर किसी बात पर आमेरिका के साथ विवाद करता है तो अमेरिका उस देश को सबक सिखाने के लिए उस पर आर्थिक प्रतिबंध लगा देता है। इसके बहुत उदाहरण हमारे सामने आए हैं जिसमें उत्तर कोरिया, ईरान और रूस जैसे देशों पर लगाए गए प्रतिबंध शामिल हैं।

Sponsored Links

अमेरिका में कितने देश हैं?

ज्यादातर एजुकेशनल प्लेटफार्म पर यह प्रश्न लिखा हुआ देखा जाता है कि अमेरिका में कितने देश हैं? तो आज इस आर्टिकल में हम यही जानने का प्रयास करेंगे कि ये जो "अमेरिका" शब्द है यह किसके लिए प्रयोग किया जाता है क्या यह किसी महाद्वीप के लिए प्रयोग किया जाता है या किसी देश के लिए प्रयोग किया जाता है या यह दो महाद्वीपों का समूह है इत्यादि सभी प्रश्नों के उत्तर आपको इस आर्टिकल में मिल जाएंगे।

दोस्तों... दरअसल भारत के पश्चिम में 2 महाद्वीप स्थित हैं इनमें से जो ऊपरी महाद्वीप है उसे हम "उत्तरी अमेरिका" कहते हैं और जो नीचे स्थित है उसे हम "दक्षिण अमेरिका" कहते हैं। इसके अलावा उत्तरी अमेरिका महाद्वीप में एक देश है "संयुक्त राज्य अमेरिका" जो सयुंक्त रूप से 50 राज्यों से मिलकर बना हुआ है।

ये ही 50 राज्य संयुक्त रूप से "संयुक्त राज्य अमेरिका" बनाते हैं जैसे 28 राज्य और 09 केंद्र शासित प्रदेश मिलकर भारत बनाते हैं। आइए अब जानते हैं कि उत्तरी अमेरिका महाद्वीप और दक्षिण अमेरिका महाद्वीप में कितने देश हैं।

उत्तरी अमेरिका महाद्वीप में कुल 23 देश हैं जिनमें अमेरिका, कनाडा और मेक्सिको का नाम प्रमुख रूप से लिया जा सकता है। वहीं दक्षिण अमेरिका महाद्वीप में कुल 12 देश है जिसमें ब्राजील, कोलंबिया और अर्जेंटीना का नाम प्रमुखता से लिया जा सकता है।

निम्न GK प्रश्नों के उत्तर जानें :

भारत के राज्य और राजधानी

सामान्य ज्ञान क्विज 190

बिहार की राजधानी क्या है?

तुगलकी फरमान क्या होता है?

भारत में सबसे बड़ा लंबा ऊंचा

Sponsored Links

ओटोमन साम्राज्य से संबंधित प्रश्न उत्तर | Ottoman Empire Related GK Question Answer in Hindi

1. ओटोमन साम्राज्य से क्या तात्पर्य है?
ओटोमन साम्राज्य को हम तुर्क साम्राज्य या उस्मानी साम्राज्य के नाम से जानते हैं यह साम्राज्य यूरोप, एशिया तथा अफ्रीका महाद्वीप पर फैला हुआ था। 1299 से 1922 तक 600 वर्ष से भी अधिक समय अस्तित्व में रहे इस साम्राज्य की भौगोलिक स्थिति के कारण इसका यूरोप तथा अरब इतिहास में महत्वपूर्ण योगदान है। भारत के इतिहास में भी ओटोमन साम्राज्य सूक्ष्म मौकों पर अपने अस्तित्व का एहसास दिलाता रहा है।

2. ओटोमन साम्राज्य की स्थापना कब हुई थी?
वर्ष 1299 में

3. ओटोमन साम्राज्य का पतन कब हुआ था?
वर्ष 1922 में

4. किस वर्ष ओटोमन साम्राज्य अपने चरम पर था?
वर्ष 1683 में

5. ओटोमन साम्राज्य की विशेषता क्या थी?
यह एशिया और यूरोप को आपस में जोड़ता था जिस कारण दोनों महाद्वीपों के बीच होने वाले व्यापार से इसे बड़ा आर्थिक लाभ प्राप्त होता था इसके अलावा ओटोमन साम्राज्य को एक बहुराष्ट्रीय तथा बहुभाषीय साम्राज्य के रूप में जाना जाता था।

6. ओटोमन साम्राज्य की स्थापना किसने की थी?
उस्मान-I ने

7. उस्मान-I किस ट्राइब पर शासन करता था?
काइ ट्राइब पर

8. इन ट्राइब्स को तुर्की में क्या कहा जाता था?
बेलिक्स

9. बेलिक्स के राजा को क्या कहा जाता था?
बे (Bey)

10. तुर्क लोग अपनी किस कला के लिए विश्वप्रसिद्ध हैं?
घुड़सवारी के लिए (इसी कला ने इन्हें युद्ध में सहायता पहुँचाई)

11. ओटोमन साम्राज्य का वास्तविक संस्थापक किसे माना जाता है?
उर्हान गाजी को (क्योंकि इसी के काल में ओटोमन साम्राज्य ने बाइंजे्टीन्स साम्राज्य जो कि ओटोमन का एकमात्र बड़ा शत्रु था; को जीतना आरंभ किया था)

12. उर्हान गाजी ने कब से कब तक शासन किया?
1324 से 1362 तक

13. उर्हान गाजी ने बाइंजे्टीन्स साम्राज्य के किन शहरों को जीत लिया था?
बुर्सा तथा नाइसिया को (इस हार के बाद ओटोमन साम्राज्य से अच्छे संबंध स्थापित करने के उद्देश्य से बाइंजे्टीन्स साम्राज्य के राजा जॉन-6 ने अपनी पुत्री की शादी उर्हान गाजी से करवा दी थी)

14. उर्हान गाजी ने किस शहर को अपनी राजधानी बनाया था?
बुर्सा को

15. उर्हान गाजी बाइंजे्टीन्स साम्राज्य के किस शहर को लगातार तीन साल तक घेराबन्दी कर जीतने में सफल हुआ था?
नाइसिया शहर को

16. उर्हान गाजी के बाद ओटोमन साम्राज्य का राजा कौन बना?
मुराद-1

17. मुराद-1 का शासन कब से कब तक चला?
वर्ष 1362 से 1389 तक

18. मुराद-1 ने किन राज्यों को स्वतंत्रता देने की शर्त पर उनसे कर (टैक्स) देने की माँग की?
सर्बिया, बुल्गारिया तथा बाइंजे्टीन्स साम्राज्य से

19. ओटोमन साम्राज्य का प्रथम शासक कौन था जिसने सुल्तान की पदवी धारण की थी?
मुराद-1

20. ओटोमन साम्राज्य के किस शासक ने "जेनिसरी" की शुरुआत की थी?
मुराद-1 ने

21. जेनिसरी (Janissary) क्या थी?
यह ईसाइयों के बच्चों को जबरदस्ती लाकर बनाई गई ऐसी फौज थी जो साम्राज्य में विद्रोह की स्थिति की चिंता को लेकर बनाई गई थी। ओटोमन शासकों ने विद्रोह की स्थिति में अपनी निजी सुरक्षा के लिए इस फौज का निर्माण किया था।

22. मुराद-1 के बाद ओटोमन साम्राज्य का शासक कौन बना?
बेजिद (Bayezid)

23. बेजिद ने कब से कब तक शासन किया?
वर्ष 1389 से 1402 तक

24. बेजिद को अन्य किस नाम से जाना जाता था?
यील्ड्रीम के नाम से (अर्थात बिजली समान टूट पड़ने वाला)

25. बेजिद की कौन सी हार को उसके जीवन की सबसे बड़ी हार माना जाता है?
अंकारा की लड़ाई में हुई हार को (इस लड़ाई में वह तैमूर से हार गया था तैमूर ने उसे 01 वर्ष तक अपने यहाँ बंदी बना कर रखा। एक वर्ष पश्चात बेजिद की मृत्यु हो गई थी)

26. बेजिद की मृत्यु से कितने वर्ष बाद तक ओटोमन साम्राज्य में सत्ता के लिए गृहयुद्ध चलता रहा?
11 वर्ष तक

27. बेजिद के बाद ओटोमन साम्राज्य का सुल्तान किसे बनाया गया?
महमद-1 को

28. वर्ष 1451 तक ओटोमन साम्राज्य को कितने प्रान्तों में बांट दिया गया था?
दो भागों में (रोमानिया तथा एनाटोलिया)

29. ओटोमन शासकों ने बाइंजे्टीन्स साम्राज्य के किस शहर को जीतने के असफल प्रयास किए?
कांस्टेन्टिनपोल शहर को

30. महमद-1 के बाद ओटोमन साम्राज्य का शासक कौन बना?
महमद-2

31. किस ओटोमन शासक ने सर्वप्रथम "सीजर" की पदवी ग्रहण की थी?
महमद-2 ने

32. महमद-2 ने कब से कब तक ओटोमन पर शासन किया?
वर्ष 1451 से 1486 तक

33. ओटोमन के किस शासक ने "कांस्टेन्टिनपोल शहर" पर कब्जा कर बाइंजे्टीन्स साम्राज्य को समाप्त कर दिया?
महमद-2 ने (वर्ष 1453 में 21 वर्ष की आयु में)

34. महमद-2 ने अपनी राजधानी किसे बनाया?
कांस्टेन्टिनपोल शहर को

35. किस शासक ने इस्तानबुल में स्थित "तोपकापी पैलेस" की स्थापना की थी?
महमद-2 ने

36. "हेगिया सोफिया" नामक चर्च को मस्जिद में किसने परिवर्तित करवाया था?
महमद-2 ने

37. महमद-2 के बाद ओटोमन साम्राज्य का शासक कौन बना?
बेजिद-2 (1486 से 1512) (इसकी कोई विशेष उपलब्धि नही है)

38. बेजिद-2 के बाद ओटोमन साम्राज्य का शासक कौन बना?
सलीम-1 (1512 से 1520 तक - आठ वर्ष का वैभवपूर्ण शासन किया)

39. किस ओटोमन शासक ने मक्का-मदीना का नियंत्रण जीतकर "खलीफा" की पदवी धारण की थी?
सलीम-1 ने

40. किस ओटोमन शासक ने पर्सिया के स्फाविद को चलदिरान के युद्ध में हराया था?
सलीम-1 ने (वर्ष 1514 में)

41. सलीम-1 ने किस वर्ष खुद को "खलीफा" घोषित किया था?
वर्ष 1517 में

42. किस वर्ष तुर्की के खलीफा का पद समाप्त करने पर भारत में मुस्लिमों द्वारा खिलाफत आंदोलन किया गया था?
वर्ष 1922 में

43. ओटोमन साम्राज्य का सबसे सफल शासक किसे माना जाता है?
सुलेमान-1 को

44. सुलेमान-1 को अंग्रेजों ने क्या नाम दिया?
द मैग्निफीसेंट

45. किस ओटोमन शासक को "कानूनी सुल्तान सुलेमान" के नाम से जाना जाता है और क्यों?
सुलेमान-1 को (साम्राज्य में कानूनों को व्यवस्थित व सदृढ़ करने के लिए)

46. किसके शासन काल को ओटोमन साम्राज्य के लिए स्वर्णकाल माना जाता है?
सुलेमान-1 के शासनकाल को

47. किस ओटोमन शासक ने भारत के दियू (जो उस समय पुर्तगाल के कब्जे में था) को घेर कर जीतने की असफल कोशिश की थी?
सुलेमान-1 ने

48. इस्तानबुल में "सुलेमानी मस्जिद" किस ओटोमन शासक ने बनवाई थी?
सुलेमान-1 ने

49. ओटोमन साम्राज्य का "यूरोप विजय रथ" कहाँ जाकर रुका था?
वियना में (वर्ष 1529 व 1532 में दो असफल कोशिशों के बाद)

50. काबा और येरुशलम की दीवार का पुननिर्माण किसने करवाया था?
सुलेमान-1 ने

51. किस रंग को विश्व में "तुर्की रंग" के नाम से जाना जाता है और क्यों?
नीले रंग को (क्योंकि यह रंग ओटोमन (तुर्क) साम्राज्य में हुई कारीगरी में बहुतयात तौर पर प्रयोग किया गया था)

52. कब से कब तक का समय ओटोमन साम्राज्य के लिए स्थिरता का समय माना जाता है और क्यों?
वर्ष 1566 से 1827 का समय (क्योंकि इस समय में ओटोमन साम्रज्य ने न तो कोई क्षेत्र जीता न ही हारा; वह ज्यों का त्यों बना रहा)

53. स्थिर काल के चलते ओटोमन साम्राज्य में क्या-क्या परिवर्तन आए?
स्थिर काल में धीरे-धीरे शासक की केंद्रीय शक्ति कमजोर होने लगी और सभी ताकतें नौकरशाही के पास आने लगी। "वसाल" नीति के अंतर्गत साम्राज्य के अधिकार में आने वाले दूरस्थ क्षेत्रों के राजाओं को स्वशासन दे दिया गया और बदले में उनसे कर तथा सैन्य सहायता की संधि की गई।

54. फ्रैक्टिसाइड की नीति क्या थी?
यह नीति यूरोपीय देशों में तथा ओटोमन साम्राज्य में अपनाई जाती थी जिसके अंतर्गत जो भी साम्राज्य का शासक बनता था वह अपने भाइयों की हत्या करवा देता था ताकि उसका कोई भी भाई सत्ता की माँग न कर सके। 1517 से 1595 तक यह नीति साम्राज्य में आधिकारिक रूप से लागू थी।

55. वर्ष 1595 में फ्रैक्टिसाइड की नीति को किस नीति में बदल दिया गया?
1595 में इस नीति में बदलाव करते हुए "गोल्डन केज" अर्थात सोने के पिंजरे की नीति अपनाई गई इसके अनुसार शासक अपने भाइयों को मारने की बजाए हरम में कैद रखता था जहाँ उसे हर प्रकार की सुविधा उपलब्ध थी खाना-पीना, दास दासी इत्यादि लेकिन उसे बाहरी दुनिया से अलग रखा जाता था ताकि वह राजनीति को समझ न सके।

56. "गोल्डन केज" की नीति किस ओटोमन शासक ने लागू की थी?
महमद-3 ने

57. किस वर्ष ओस्मान-2 ने जेनिसरी (जो शासक की निजी सेना थी) को समाप्त कर दिया था?
वर्ष 1622 में

58. कब से कब तक ओटोमन साम्राज्य के शासकों को कठपुतली बना कर उनकी माताओं द्वारा शासन किया गया?
वर्ष 1623 से 1656 तक

59. कब से कब तक ओटोमन साम्राज्य के शासकों को कठपुतली बना कर वजीरों द्वारा शासन किया गया?
वर्ष 1656 से  1703 तक

60. ओटोमन साम्राज्य के शासक कठपुतली बन कर क्यों रह गए थे?
क्योंकि ज्यादातर शासकों के जीवन के प्रारंभिक 20 से 30 वर्ष हरम में बीतते थे इसलिए उन्हें राजनीति का कोई विशेष ज्ञान नही था। गोल्डन केज की नीति भी ओटोमन के पतन का एक प्रमुख कारण बनी।

61. वर्ष 1768 से 1774 के बीच चले रूस-तुर्की प्रथम युद्ध में किसकी हार हुई थी?
ओटोमन साम्राज्य (अर्थात) तुर्की की

62. ओटोमन साम्राज्य किन कारणों से अपने पतन की ओर बढ़ने लगा था?
उपनिवेशवाद के जरिए यूरोपीय देशों की बढ़ती ताकत, तकनीति अभाव व पिछड़ापन, यूरोप में पनपा औधोगिकरण, नौकरशाही की बढ़ती ताकत, भ्र्ष्टाचार, भाई भतीजावाद तथा गुलाम देशों में पनप रहे राष्ट्रवाद इत्यादि के चलते ओटोमन के कदम अपने पतन की ओर बढ़ने लगे थे।

63. किस काल को ओटोमन की गिरावट का काल माना जाता है?
वर्ष 1828 से 1908 के काल को

64. ओटोमन साम्राज्य में आधुनिकीकरण की शुरुआत किस शासक के शासनकाल में हुई थी?
सुल्तान सलीम-3 के शासनकाल में (वर्ष 1789 से 1807)

65. ओटोमन साम्राज्य के लिए कौन सा समय तंजीमत (रिफॉर्म्स) का समय रहा?
वर्ष 1839 से 1876 तक का समय

66. ओटोमन साम्राज्य में किस वर्ष डाकघर, बैंक नोट, वित्त व्यवस्था, क्रिमिनल कोड, आर्मी भर्ती प्रक्रिया में बदलाव इत्यादि की व्यवस्था लागू की गई?
वर्ष 1840 में

67. ओटोमन साम्राज्य में किस वर्ष संसद की स्थापना हुई जिसे कुछ समय बाद हटा दिया गया था?
वर्ष 1876 में

68. ओटोमन साम्राज्य किस देश के मॉडल पर अपने रिफॉर्म्स ला रहा था?
फ्रांस देश के मॉडल पर

69. ओटोमन साम्राज्य में किस वर्ष प्रथम आधुनिक विश्विद्यालय की स्थापना की गई?
वर्ष 1848 में

70. ओटोमन साम्राज्य ने किस वर्ष फ्रांस और इंग्लैंड के साथ मिलकर रूस से क्रीमियन युद्ध जीता?
वर्ष 1853-56 में

71. ओटोमन साम्राज्य को किस वर्ष पहली बार विदेशी लोन लेना पड़ा और क्यों?
विकास में पिछड़ जाने के कारण ओटोमन साम्राज्य की अर्थव्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित हुई फलस्वरूप उसने खुद को दिवालिया घोषित कर यूरोपीय देशों से लोन लेना शुरू कर दिया।

72. द्वितीय रूस-तुर्की युद्ध कब लड़ा गया और इसमें किसकी जीत हुई?
द्वितीय रूस-तुर्की युद्ध वर्ष 1877-78 में लड़ा गया और इसमें रूस की जीत हुई।

73. किस ओटोमन शासक ने "डोलमाबाची पैलेस" की स्थापना की थी?
अब्दुलमाजिद-1 ने

74. तुर्की के ओटोमन साम्राज्य की बिगड़ती अर्थव्यवस्था देख यूरोपीय देशों ने तुर्की को किस नाम से परिभाषित किया?
सिक मैन ऑफ यूरोप (यूरोप का बीमार व्यक्ति)

75. यूरोपीय देशों ने ओटोमन साम्राज्य में किस बॉडी की स्थापना कर लोन के नाम पर ओटोमन साम्राज्य को आपस में बांटना शुरू कर दिया?
ओटोमन पब्लिक डेब्ट एडमिनिस्ट्रेशन (OPDA) की स्थापना कर। इस बॉडी की स्थापना वर्ष 1881 में की गई थी।

76. किस वर्ष ओटोमन का समाप्त होना लगभग तय हो गया था?
वर्ष 1908 में

77. किस वर्ष ओटोमन यूरोप और अफ्रीका से समाप्त होकर एशिया तक सिमट कर रह गया था?
वर्ष 1913 में

78. किसने तुर्की को ओटोमन से आजाद कर एक देश के रूप में स्थापित किया?
मुस्तफा कमाल पाशा ने

79. तुर्की के आजाद मुल्क बनने के बाद किस दिनांक को ओटोमन के राजा को देश निकाला दे दिया गया?
01 नवंबर 1922 को (और इसी के साथ ओटोमन साम्राज्य की आधिकारिक तौर पर समाप्ति हो गई)

80. ओटोमन साम्राज्य के अंतिम शासक कौन थे?
महमद-6

Sponsored Links