Sponsored Links

ABP Full Form in Hindi एबीपी फुल फॉर्म

वर्ष 1922 में पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में एक समाचार समूह की स्थापना हुई इस समूह का नाम "ABP समूह" रखा गया। उस समय से लेकर आज तक यह समूह लगातार समाचार क्षेत्र में अपना दबदबा कायम रखने में सफल रहा है। इसे मुख्य रूप से बंगाली भाषा में समाचार उपलब्ध करवाने के लिए जाना जाता है लेकिन एबीपी न्यूज़ चैनल के आने के बाद इस समूह को हिंदी भाषी क्षेत्रों में बाखूबी तौर जाने जाने लगा है। ABP समूह की सबसे बड़ी सफलता यह है कि इसने अमेरिकी मास मीडिया कंपनी (21st Century Fox) द्वारा भारत में स्थापित की गई "STAR India" के न्यूज़ से संबंधित सभी चैनलों को बदलकर उनकी जगह स्वयं को सफलतापूर्वक स्थापित किया है। स्टार इंडिया जो कि भारतीय मीडिया कंपनियों के सबसे बड़े संगठनों में से एक है और जिसके भारत में 72 करोड/ प्रतिमाह दर्शक हैं को समाचार क्षेत्र से विस्थापित कर ABP आज भारत के सबसे बड़े हिंदी समाचार चैनलों में से एक बन गया है तो चलिए जानते हैं ABP की फुल फॉर्म क्या है और इसके बारे में वो सभी तथ्य जो सामान्य ज्ञान की दृष्टि से आपको पता होने चाहिए।

ABP की फुल फॉर्म होती है Ananda Bazar Patrika (आनंद बाजार पत्रिका) और यह पत्रिका मुख्य रूप से बंगाली समाचार क्षेत्र में स्थापित है। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता से एबीपी समूह द्वारा बहुत से समाचार पत्र प्रकाशित किए जाते हैं। आनंद बाजार पत्रिका भी रोजाना छपने वाला एक बंगाली समाचार पत्र है तथा इसी पत्र के नाम पर ABP समूह का नाम रखा गया है। प्रत्येक 6 माह में आनंद बाजार पत्रिका की 11 लाख से अधिक प्रतियां आबंटित होती हैं। इसके अतिरिक्त एबीपी समूह द्वारा इबेला नाम का बंगाली तथा द टेलीग्राफ नाम का इंग्लिश समाचार पत्र भी प्रकाशित किया जाता है। एबीपी समूह बच्चों के लिए "आनंदमेला", यंग जनरेशन के लिए "उनिश कुरी", महिलाओं के लिए "सुनंदा", फिल्मी क्षेत्र से सबंधित समाचार देने के लिए "आनंदलोक", विद्यार्थियों का मार्गदर्शन करने के लिए "द टेलीग्राफ इन स्कूल" तथा साहित्य संबंधित जानकारियां देने के लिए "देश" नाम से समाचार पत्र व मैगज़ीन प्रकाशित करता है।

इसके अलावा न्यूज़ चैनलों के क्षेत्र में भी ABP समूह स्वयं को स्थापित करने में कामयाब रहा है। हिंदी न्यूज़ चैनल एबीपी न्यूज़ (जो कि पहले स्टार न्यूज़ के नाम से जाना जाता था) भी इसी समूह द्वारा संचालित है। इसके अलावा बंगाली न्यूज़ चैनल एबीपी आनंदा, पंजाबी न्यूज़ चैनल एबीपी सांझा, मराठी न्यूज़ चैनल एबीपी माझा, गुजराती न्यूज़ चैनल एबीपी अस्मिता भी ABP समूह द्वारा सफलतापूर्वक चलाए जा रहे हैं। डिजिटल क्षेत्र में भी एबीपी लाइव न्यूज़ सेवा हर समय मौजूद रहती है। एबीपी समूह का मुख्यालय कोलकाता में स्थित है और यहीं से ABP अपने सभी समाचार पत्र तथा न्यूज़ चैनलों को प्रबंधित करता है। इन सभी चैनलों में जो सबसे महत्वपूर्ण है वो है एबीपी न्यूज़। तो चलिए इसके बारे में थोड़ा गहराई से जानते हैं।

एबीपी न्यूज़ की स्थापना 18 फरवरी 1998 को "स्टार न्यूज़" के रूप में हुई थी उस समय अमेरिकी कंपनी "स्टार इंडिया" तथा एनडीटीवी ने मिलकर स्टार न्यूज़ को हिंदी और इंग्लिश में प्रसारित करना शुरू किया था लेकिन वर्ष 2003 में NDTV के साथ कॉन्ट्रैक्ट समाप्त होने के पश्चात स्टार इंडिया ने एबीपी के साथ मिलकर स्टार न्यूज को पूरी तरह हिंदी न्यूज़ चैनल में परिवर्तित कर दिया। स्टार इंडिया चाहता था कि वह स्टार न्यूज़ को पूरी तरह अपने मालिकाना हक में ले लेकिन भारत सरकार की नीति के अनुसार भारतीय न्यूज़ क्षेत्र में किसी बाहरी कंपनी की 26% से अधिक हिस्सेदारी नहीं हो सकती जिसकी वजह से "स्टार न्यूज़" में स्टार इंडिया की हिस्सेदारी 26% रह गई तथा एबीपी समूह की 74% हिस्सेदारी हो गई। वर्ष 2012 तक इसी हिस्सेदारी के साथ "स्टार न्यूज़" को प्रसारित किया गया। परंतु वर्ष 2012 में स्टार इंडिया ने निर्णय लिया कि वह न्यूज़ क्षेत्र से हटकर सिर्फ मनोरंजन के क्षेत्र में अपना ध्यान केंद्रित करेगा और उसने स्टार न्यूज़ चैनल से अपनी 26% हिस्सेदारी समाप्त कर ली। जिसके पश्चात स्टार न्यूज़ से संबंधित सभी चैनल जैसे कि स्टार आनंदा, स्टार माझा इत्यादि को एबीपी में बदल दिया गया और अब इन्हें एबीपी आनंदा, एबीपी माझा के नाम से जाना जाता है। पंजाबी क्षेत्र में अपनी प्रसिद्धि को देखते हुए एबीपी समूह ने "एबीपी सांझा" चैनल शुरू किया। 01 जनवरी 2016 को गुजराती भाषा में न्यूज़ प्रसारित करने के उद्देश्य से "एबीपी अस्मिता" चैनल शुरू किया गया। इसके साथ ही एबीपी न्यूज़ ने अपना स्लोगन "आपको रखे आगे..." को प्रचारित किया और धीरे-धीरे यह चैनल हिंदी भाषी क्षेत्रों में प्रचलित हो गया।

Sponsored Links

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें