Sponsored Links

आनंदमठ के रचयिता कौन हैं?

इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि आनंदमठ की रचना किसने की? साथ ही जानेंगे आनंदमठ के रचयिता के बारे में वो सभी तथ्य जो सामान्य ज्ञान की दृष्टि से आपको पता होने चाहिए।

आनंदमठ के रचयिता बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय हैं। आनंदमठ उपन्यास का प्रकाशन वर्ष 1882 में हुआ था तथा वर्ष 1952 में इस उपन्यास पर आधारित फिल्म आनंदमठ प्रदर्शित हुई थी। आनंदमठ उपन्यास के बारे में जानने योग्य है कि भारत का राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम सर्वप्रथम आनंद मठ में प्रकाशित हुआ था तथा इसी उन्यास से राष्ट्र गीत को लिया गया है। आनंदमठ मूल रूप से बंगाली भाषा में रचित उपन्यास है जिसके बाद में हिंदी और इंग्लिश भाषाओं में अनुवाद किए गए। यह उपन्यास मुख्य रूप से बिहार और बंगाल के क्षेत्रों में ब्रिटिश समय के दौरान पड़े अकाल के चलते लोगों की दयनीय स्थिति पर आधारित है। इस उपन्यास की शुरुआत पदचिन्ह नामक गांव में रहने वाले महेन्द्र और कल्याणी (जो कि एक जमीदार हैं) के गांव से निकलने पर मजबूर होने की कथा है। बंगाल के क्षेत्र में हुए सन्यासी विद्रोह का वर्णन भी इस उपन्यास में मिलता है।

रचयिता कौन हैं : बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय
रचना कब की : वर्ष 1882 में
विशेषता : भारत का राष्ट्र गीत वन्दे मातरम आनंदमठ से लिया गया है

Sponsored Links

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें