Sponsored Links

भारत में जजिया कर किसने लगाया था

भारत में मुस्लिम शासकों के आगमन के पश्चात बहुत से बदलाव देखने को मिले इन्ही बदलावों के चलते राजकोष की आमदनी बढ़ाने के लिए लगाए जाने वाले करों का भी नया रूप देखने को मिला इनमें में से एक था जजिया कर। जजिया कर को सर्वप्रथम भारत में गुलाम वंश के शासक कुतुबद्दीन ऐबक ने लागू किया था। कुतुबद्दीन का शासन काल 1206 से 1210 तक चला इन्ही चार सालों के शासनकाल में उसने ऐसे कार्य किए जिसमें से कुछ प्रजा के हक में थे तो कुछ जजिया कर की तरह प्रजा के मन में द्वेष की भावना पैदा करने वाले थे। जजिया कर क्या है? आइए जानते हैं:

जजिया कर किसने लगाया: कुतुबद्दीन ऐबक ने
कब लगाया: 1206 से 1210 के मध्य

जजिया कर गैर मुस्लिमों पर लगाया जाने वाला कर था उनसे यह कर मुस्लिम शासकों द्वारा उनकी सुरक्षा करने के लिए हर्जाने के रूप में लिया जाता था। मुस्लिम शासक इस कर से एकत्रित हुए धन का प्रयोग सेना सबंधी खर्च उठाने के लिए किया करते थे। इस कर के लिए एक नियम बनाया गया था कि जो भी व्यक्ति मुस्लिम धर्म स्वीकार कर लेगा उस पर जजिया कर नही लगाया जाएगा इसका एक प्रभाव ये हुआ कि जो गरीब व्यक्ति यह कर दे पाने में असमर्थ होता था उसे इस्लाम कबूल करने पर विवश होना पड़ता था। इसलिए इस कर को मुस्लिम शासकों द्वारा अपने धर्म को फैलाने के लिए रचे गए षड्यंत्र की तरह देखा जाता था।

कुतुबद्दीन ऐबक से जुड़े अन्य सामान्य ज्ञान प्रश्न:

1. कुतुबद्दीन ऐबक द्वारा स्थापित किए गए गुलाम वंश की राजधानी क्या थी?
दिल्ली

2. कुतुबद्दीन ऐबक द्वारा शुरू करवाई गई कुतुब मीनार का नाम किसके नाम पर रखा गया है?
सूफी संत ख्वाजा कुतुबद्दीन बख्तियार के नाम पर

3. कुतुबद्दीन के बाद गुलाम वंश की गद्दी पर कौन बैठा था?
कुतुबद्दीन का दामाद इल्तुतमिश।

4. कुतुबद्दीन ऐबक किस सामाजिक कुप्रथा का पीड़ित था?
दास प्रथा

4. कुतुबद्दीन ऐबक किसका गुलाम था जिसने जाने से पूर्व जीता हुआ दिल्ली का क्षेत्र कुतुबद्दीन को सौंप दिया था?
मोहम्मद गौरी।

5. कुतुबद्दीन ऐबक किस देश का रहने वाला था?
तुर्किस्तान

6. कुतुबमीनार के अतिरिक्त कुतुबद्दीन ऐबक को किस प्रसिद्ध निर्माण के लिए जाना जाता है?
ढाई दिन का झोपड़ा के लिए।

7. कुतुबद्दीन ऐबक की मृत्यु कैसे हुई थी?
घोड़े से गिरने के कारण।
Sponsored Links

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें