Sponsored Links

आकाशगंगा से जुड़े सामान्य ज्ञान प्रश्न GK Question about Galaxy in Hindi

यह पृष्ठ ब्रह्मांड की विशालकाय रचना आकाशगंगा से सबंधित सामान्य ज्ञान प्रश्नों के उत्तर देने के उद्देश्य से बनाया गया है। यदि आप के पास आकाशगंगा (Galaxy) से सबंधित कोई प्रश्न है तो टिप्पणी के माध्यम से हम तक पहुँचाएँ जल्द से जल्द उत्तर देने का प्रयास किया जाएगा।

1. आकाशगंगा किसे कहते हैं?
तारों के विशाल समूह को

2. आकाशगंगा में कितने तारे होते हैं?
लगभग 100 अरब (तारों की सँख्या आकाशगंगा के आकार पर निर्भर करती है)

3. एक आकाशगंगा का कितने प्रतिशत भाग तारों से बना होता है?
98% भाग

4. आकाशगंगा में ग्रहों की सँख्या कितनी होती है?
50 अरब से ज्यादा

5. हमारा सूर्य किस आकाशगंगा का हिस्सा है?
दुग्धमेला का

6. दुग्धमेला को अंग्रेजी में क्या कहा जाता है?
मिल्की वे

7. दुग्धमेला में किस स्थान पर सूर्य स्थित है?
बाहरी ओर (आकाशगंगा हमारे उतर से दक्षिण दिशा में विस्तृत है)

8. सूर्य कितने समय में हमारी आकाशगंगा के केंद्र का एक चक्र पूरा कर लेता है?
25 करोड़ वर्षों में

9. आकाशगंगा में तारों के अलावा और क्या क्या स्थित होता है?
ग्रह, ठोस पिंड तथा धूल कण

10. हमारी आकाशगंगा का आकार कैसा है?
सर्पिलाकार

11. आकाशगंगाओं के आकार कुल कितनी तरह के हो सकते हैं?
तीन तरह के: सर्पिलाकार, दीर्घवृतीय तथा अनियमित

12. ब्रह्मांड में सबसे अधिक किस आकार की आकाशगंगाएं हैं?
सर्पिलाकार की

13. क्या हम अपनी पूरी आकाशगंगा को देख सकते हैं?
नही... (क्योंकि हम स्वयं इसका हिस्सा हैं तथा इसके बाहरी विस्तार में स्थित हैं इसलिए पूरी आकाशगंगा को देख पाना संभव नही है)

14. क्या हम भविष्य में अपनी आकाशगंगा को देख पाएंगे?
निकट भविष्य में ऐसा संभव नही है

15. हमारी आकाशगंगा के सबसे निकट कौन सी आकाशगंगा है?
देवयानी

16. क्या हम अपनी आकाशगंगा के केंद्र को देख सकते हैं?
हाँ... उपकरणों की सहायता से यह संभव है

17. पृथ्वी से आकाशगंगा का विस्तार कैसा दिखाई देता है?
यह उत्तर से दक्षिण में विस्तृत तारों की बहती सफेद धारा जैसी प्रतीत होता है

18. तारों के इस समूह को आकाशगंगा नाम कैसे मिला?
आकाशगंगा को अंग्रेजी में गैलेक्सी कहा जाता है हिंदी में यह नाम भारत की मुख्य तथा पवित्र नदी गंगा तथा आकाश शब्द के परस्पर मेल से आकाशगंगा बना है।

19. हमारी आकाशगंगा को दुग्धमेला क्यों कहा जाता है?
क्योंकि यह आकाश में दूधिया छवि प्रस्तुत करती है।

20. क्या हम अपनी आकाशगंगा की काल्पनिक तस्वीर बना पाए हैं?
हाँ

21. यदि हमारी आकाशगंगा को हम 3 डी रूप में अर्थात इसके वास्तविक रूप में देख पाएं तो यह कैसी होगी?
चपटी तथा गोलाकार

22. हमने अपनी आकाशगंगा की काल्पनिक तस्वीर किस आधार पर बनाई जबकि हम इसे देख पाने में असमर्थ हैं?
दूसरी आकाशगंगाओं को देखकर तथा हमारी आकाशगंगा के अन्य तारों के अनुपात में सूर्य की स्थिति को समझकर

23. हमारी आकाशगंगा का गोलाई में व्यास कितना है?
1 लाख प्रकाश वर्ष

24. हमारी आकाशगंगा की मोटाई कितनी है?
हमारी आकाशगंगा चपटी है इसलिए एक तरफ इसका व्यास है तथा दूसरी तरफ मोटाई। इसकी मोटाई 1 हजार प्रकाश वर्ष है।

25. यदि हमारी आकाशगंगा की तुलना किसी वस्तु से करें तो यह देखने में किसके समान लगेगी?
आतिशबाजी में प्रयोग होने वाली घुमावदार चलती चकरी के जैसी। अंतर यह होगा कि जहाँ चकरी एक ओर से भुजा बनाकर प्रकाश छोड़ती है हमारी आकाशगंगा की दो मुख्य भुजाएँ हैं।

26. हमारी आकाशगंगा के मुकाबले हमारे सौरमंडल का आकार कितना है?
इसको समझने के लिए हमें भारत, पाकिस्तान व बांग्लादेश को मिलाकर बने भूभाग की कल्पना करनी होगी जिसे सयुंक्त भारत कहेंगे। अब यदि इतने बड़े भूभाग को आकाशगंगा मान लिया जाए तो हमारा सौरमंडल इस सयुंक्त भारत में कहीं पड़े एक रूपए के सिक्के जितना होगा।

27. यदि हम इतने छोटे हैं तो क्या कभी आकाशगंगा में कोई परिवर्तन कर पाने में सक्षम होंगे?
हम छोटे अवश्य हैं परन्तु जिस प्रकार एक रुपए के सिक्कों की सँख्या अरबों में है उसी प्रकार यदि हमारे जैसे जीवन योग्य सौरमंडल पूरी आकाशगंगा में बड़ी सँख्या में हुए तो हम सब मिलकर आकाशगंगा में अवश्य परिवर्तन कर पाने में सक्षम होंगे इसीलिए हमारे वैज्ञानिक एलियन सभ्यता की खोज में प्रयासरत हैं यदि हम इसमें सफल हो जाते हैं तो हमारे यहाँ होने का वजूद तथा इसका कारण कुछ हद तक स्पष्ट हो पाएगा।

28. हम अपनी पृथ्वी से बाहर ब्रह्मांड में कहाँ तक पहुँच पाए हैं?
फिलहाल हम शनि ग्रह से कुछ आगे ही पहुँच पाए हैं परन्तु सौरमंडल से निकल पाने में सक्षम नही हैं।

29. क्या हमारी आकाशगंगा का अंत होगा?
अवश्य होगा

30. क्या हम अपनी आकाशगंगा का अंत देख पाएंगे?
नही... क्योंकि उस समय से खरबों वर्ष पूर्व ही सूर्य और पृथ्वी नष्ट हो चुके होंगे

31. यदि हमारी आकाशगंगा की भुजाएँ है तो हमारा सौरमंडल किस भुजा में स्थित है?
हमारी आकाशगंगा की दो मुख्य तथा बाकि अन्य भुजाएँ हैं हम मुख्य भुजाओं में नही है। हमारा सूर्य शिकारी हन्स भुजा में विद्यमान है।

32. क्या हमारी आकाशगंगा के मध्य कोई बड़ा तारा है जिसकी परिक्रमा हमारा सूर्य व अन्य तारे कर रहे हैं?
नही... इसका केंद्र गहन अंधकारमय है जिसे ब्लैक होल (श्याम छिद्र) कहा जाता है। यह ब्लैक होल इतना शक्तिशाली है कि यदि कोई व्यक्ति इसके गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र में आ जाए तो यह इतनी तेजी से उसे अपनी ओर खींचेगा कि वह व्यक्ति एक तार की तरह खींच कर बीच से टूट जाएगा।

33. दूसरी आकाशगंगा से हमारी पृथ्वी तक रोशनी कितने समय में पहुँचती है?
हमारे सबसे करीब आकाशगंगा हमसे 2 करोड़ प्रकाश वर्ष दूर है अर्थात इसके प्रकाश को हम तक पहुँचने में 2 करोड़ वर्ष लग जाते हैं किसी भी आकाशगंगा का प्रकाश हम तक इससे कम समय में नही पहुँच सकता।

34. कौन सी दो टकराती हुई आकाशगंगाएं हमारे सबसे नजदीक हैं?
हमारी आकाशगंगा से लगभग साढ़े चार प्रकाश वर्ष दूर दो सर्पिलाकार की आकाशगंगाएं आपस में टकरा रही हैं यह विशालकाय नजारा सयुंक्त रूप से एंटने कही जाने वाली आकाशगंगाओं के टकराने से बन रहा है। ये आकाशगंगाएं ब्रह्मांड में विचरण करते हुए एक दूसरे की गुरुत्वाकर्षण सीमा में आ गयी थी तथा दोनों ही पिछले लाखों वर्षों से आपसी खिंचाव के कारण एक दूसरे से टकरा रही हैं तथा इनके तारों व ग्रहों में विनाश हो रहा है।

Sponsored Links

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें