Sponsored Links

इलेक्टोरल कॉलेज क्या है | Meaning of Electoral College in Hindi

इलेक्टोरल कॉलेज को हिंदी में निर्वाचन मंडल कहा जाता है। इसका गठन राष्ट्रपति व उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए किया जाता है। लोकसभा व राज्यसभा के सांसद तथा विभिन्न राज्यों की विधानसभा के विधायक राष्ट्रपति चुनाव से पूर्व गठित होने वाले इस मंडल के सदस्य बनते हैं। ये सभी सदस्य मिलकर मतदान के माध्यम से देश के राष्ट्रपति का चुनाव करते हैं जो कि जनता द्वारा ही अप्रत्यक्ष रूप से चुना गया माना जाता है।

इलेक्टोरल कॉलेज को राष्ट्रपति चुनाव के बाद निरस्त कर दिया जाता है तथा जब पाँच वर्ष बाद पुनः राष्ट्रपति चुनाव होते हैं तो नए निर्वाचन मंडल का गठन किया जाता है क्योंकि पाँच वर्ष के इस समय काल में लोकसभा व राज्यसभा के सासंदो तथा विधानसभा के विधायकों में फेरबदल हो जाता है जिस कारण नए सदस्य इन पदों पर निर्वाचित हो जाते हैं।

इलेक्टोरल कॉलेज से सबंधित पूछे जा सकने वाले सामान्य ज्ञान प्रश्न:

1. इलेक्टोरल कॉलेज को हिंदी में क्या कहा जाता है?
निर्वाचन मंडल

2. क्या विधान परिषद के सदस्य इलेक्टोरल कॉलेज के सदस्य हो सकते हैं?
नही

3. क्या लोकसभा तथा राज्यसभा के नामांकित सदस्य इलेक्टोरल कॉलेज के सदस्य हो सकते हैं?
नही! केवल निर्वाचित सदस्यों को ही यह अधिकार प्राप्त है।

4. इलेक्टोरल कॉलेज का गठन कब किया जाता है?
राष्ट्रपति व उपराष्ट्रपति चुनाव से पहले।

5. इलेक्टोरल कॉलेज द्वारा करवाए जाने वाले राष्टपति चुनावों में वोटों की गिनती कैसे होती है?
वोट की वैल्यू के आधार पर। (लोकसभा तथा राज्यसभा के सासंदो के वोट की वैल्यू बराबर होती है जबकि विधानसभा के विधायकों के वोट की वैल्यू राज्य की जनसँख्या के आधार पर तय की जाती है)

Sponsored Links

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें